'काश्मीर के प्रति पुस्तक' को अलग-अलग पेजेस में डिवाइड किया गया है होम पेज पर ही आप ये पाएँगे :-


काश्मीर के प्रति
काश्मीर के प्रति - कवि की कलम से
काश्मीर के प्रति - सम्पादकीय
कश्मीर के प्रति - पाठकों के पत्र
काश्मीर के प्रति - प्रथम सर्ग
काश्मीर के प्रति - द्वितीय सर्ग
काश्मीर के प्रति - तृतीय सर्ग
काश्मीर के प्रति - चतुर्थ सर्ग
काश्मीर के प्रति - पंचम सर्ग


इन में एक एक पर आप क्लिक कर के पढ़ पाएँगे सभी 'सर्गों' में टिप्पणी बॉक्स ओपन हैं संबंधित सर्ग संबंधी टिप्पणी आप वहाँ दे सकते हैं पूर्ण समीक्षा shekharchaturvedi13@gmail.com पर मेल कर सकते हैं, जिसे समय समय पर 'पाठकों के पत्र' पेज पर पोस्ट किया जाएगा
आभार..........

काश्मीर के प्रति - प्रथम सर्ग



ओ हिंद वीर के उच्च भाल,किन्नरियों के पावन, सुदेश |
तेरी महिमा का अमित गान,कर सकते क्या सारद गणेश ||१||

सौन्दर्य सलिल सरवर है तू,नर नलिन जहाँ सर्वत्र खिले |
मधुकरी किन्नरी वार चुकी , मधु -रस लेकर मन मुक्त भले ||२||

पर्वत पयस्विनी पादप गन , पुष्पावलि पावन विविध रंग |
आभूषित कलित मृदुल मधु मय , प्रकृति वनिता के विविध रंग ||३||

केसर कल कंज विहारिण हो , वर प्रकृति पद्मनी वाम बनी |
नर की क्या गणना है जिस पर , मोहित होते सुर यक्ष मुनि ||४||

तेरी कल कंज कली केसर , बादाम दाम सी फुलवारी |
फल फुल्ल–फूल मधुमय मेवा , निर्झर प्रपात हिममय वारी ||५||

भारत माता का तू ललाट , पृथ्वी का नंदन सा कानन |
अथवा तू भारत भामिनि का , मंजुल मयंक सा है आनन ||६||

कुछ तीव्र त्वरित गति से बहती , इठलाती सी इतराती सी |
नव वधू वितस्ता तव हिय पर , कल कलिका सी कलपातीसी ||७||

उसमें कंजादिक विविध पुष्प , मानो बहु दीप सुहाते हैं |
अपने प्रियतम की आरति को , आरत हर वारे जाते हैं ||८||

तरनी तटनी शीतल जल में , जब खोल पाल को बहती हैं |
मानो अलका नगरी नभ में , पर खोल परी बहु उडती हैं ||९||

त्वरिता गति से वे आजाकर , इतराना अमित दिखाती हैं |
लहरों से लह कर सलिल घाट , अनुपम नव नृत्य दिखाती हैं ||१०||

नव-वधु सपति उनमें मानों, यक्षिणी यक्ष सँग सजी हुई|
अथवा सुर-ललना नाथ-साथ, सुरसरिता में रति भरी हुई ||११||

ओ काश्मीर ! जब चन्द्र पूर्ण, जल व्यास मध्य दिखलाता है |
मानो बहु चन्द्र-मुखी लखकर, होकर विमुग्ध रम जाता है ||१२||

अथवा देकर निज सुधा दान, निज व्यक्त भावना करता है |
रति-पति का सहचर बनकर , मोहक आसव से भरता है ||१३||

अथवा बहु-रूप धार जल में, चाँदी चकई सा लगता है |
उत्तुंग तरंग तरंगित हो ,कर-कस की कसरत करता है ||१४||

तू आर्य भूमि, तू दिव्य देश, वैदिक प्रतीक तू किन्नरेश |
तू आदि सभ्यता का निधिवन , शुभ सुन्दर सारस्वत प्रदेश ||१५||

गिरिजा-पति किन्नर नृत्य हेरि,स्तव्ध हुए ज्यों पाथ-नाथ |
नभ-चुम्बित गढ़ सा अद्री-मृंग, हो गया प्राप्त कर के सनाथ ||१६||

मधु-मृदुल मनोहर दिव्य दृश्य,दृष्टीगत होता उच्च धाम |
हिम-गिरि का मान समान ताल,हर गृह ललाम कैलाश नाम ||१७||

श्रीनगर पार्श्व उत्तर दिशि में, मंगलमय पावन अमरनाथ |
जिसकी यात्रा अघ ओघ हरे,मनमुदित होत गिरि-सुता-नाथ ||१८||

जिसको आराधा बार बार ,वारण-तारक ने स-विधि साध |
वैष्णव देवी की दिव्य-दरी, भक्ती की धारा है अगाध ||१९||

तुझसे वो ब्रह्माण विज्ञ हुआ,जिससे थर्राता दिग-दिगंत |
ओ काश्मीर ! कारण जिसके, अवतीर्ण हुए रघवर अनंत ||२०||

भारत माता का तू ललाट,साहित्य,शास्त्र का सौख्य सिन्धु |
लहलही हुई है विश्व-बेलि, जिसकी लघु सी पा एक बिंदु ||२१||

जिसका पांडित्य प्रभाकर सा, खर-प्रभा दिगंत दिखाता था |
विद्वता बनारस मागध की, हारी, मुख बंग छिपाता था ||२२||

चाणक्य चतुर नृप नीति-विज्ञ, व्याकरण करण शालातुरीय |
उत्पन्न हुए जिन जननी से, उनका तू प्रांगण दर्शनीय ||२३||

है विश्व विदित तव बौद्ध धर्म, ललितादित का साहस अपार |
नतमस्तक था वह चीन देश, जिसके बल सन्मुख,बन सियार ||२४||

जिसके भय से थे भीत सभी, तिब्बत सिक्किम और देश चीन |
शक्ति शांति का आराधक, प्यारा कनिष्क तव-सरित-मीन ||२५||

पान द्वय से आदृत होता, वेदांत काव्य कामिलन दिव्य |
उस प्रतिभा का विजयी मम्मट, हे काश्मीर ! तव निधी भव्य ||२६||

अकबर महान के कारण तू ! मुगलों का भव्योद्यान बना |
जहाँगीर पुत्र, मुमताज़ ताज, का क्रीडाराम ललाम बना ||२७||

ललाट देश ! ओ ललन-धाम, लालिमा ललामी युक्त देश |
तेरा लावण्य विलोकन को, आते अशेष नित भव्यदेश ||२८||

आंग्ल देश के अवला गण, तुझको निहार थक जाते थे |
जगती तल का आश्चर्य नवल, पाश्चात्य पुरुष बतलाते थे ||२९||

क्रीडा स्थल अभिराम बना, गौरांग देव की ललना का |
काश्मीर ! कलित कलता तेरी, भोली कामिनि की छलना का ||३०||

तेरी प्रभुता, महिमा, गरिमा, नन्दिनवन कलित कामना से |
हो देश-प्रेम से ओत-प्रोत, जिसने कैकर्य भावना से ||३१||

दे लाख पिचत्तर मुद्रा के, गोरांग प्रभू को मन चाही |
तेरे तन से बेडी कठोर, दासता मयी यों कट वाही ||३२||

क्षत्रिय कुल कमल दिवाकर सा, वह काश्मीर! था सिंह गुलाब |
भुज विक्रम अद्रिसुता सुत सा, जननी अवनी प्रति नेह भाव ||३३||

रिपु गर्व रदन के भंजन को, तन मन में साहस था अपार |
तिब्बत गिलकिट तक रेख खींच, पहुँचाई सीमा चीन पार ||३४||

सुषमा भर दी तेरे तन में, जनता को दिया था दुलार |
उन्नत हो प्राज्ञ, प्रभा विकसे, कविता कामिनि से अतुल प्यार ||३५||

हो गया स्वतंत्र उन्नत मस्तक,हे भारत भू आनन अनूप|
सदियों से मानो आप्त किया, तू ने अपना अनुपम स्वरुप ||३६||

था गुलाब सिंह हृद का गुलाब , कविता प्रिय पंडित काश्मीर |
जन प्रिय शासक था भूप बना, शार्दूल सरस ‘रणवीर’ धीर ||३७||

कर दिये पूर्ण सब पितृ कार्य, हो गया उरिन यों काश्मीर |
सीमा को सुद्रढ़ बना डाला, रणवीर सिंह था सिंह वीर ||३८||

याचक थे पूर्ण अयाचक से, पांडित्य-प्रेम था मन उदार |
रणवीर -सिंह -सुत जब ‘प्रताप’, बन भूप तुझे किया पियार ||३९||

तब आंग्ल ,फ्रेंच ,डच , रोम नारि, जर्मनी , अरब तरुनी ललाम |
तव छवि निरावने आती थी, लज्जित होती तुझसे प्रकाम ||४०||

मुगलों की भामिनी चपला सी,चंचला चारू चीनी कुमारी |
रुसी, जापानी रद तृण ले, तव ललना ढिंग करती पुकार ||४१||

उनके भाई थे अमर सिंह, शुचि,सौभ्य ,सरल, चित सेउदार |
नि: संतति अपने अग्रज से, कैकयी-सुत सा करते पियार ||४२||

दे दिया पुत्र निज हरीसिंह, उनकी सेवा आराधन में |
पाया था जिसने प्रेम भाव, पितृव्य प्रताप सिंह मन में ||४३||

जिन्ना कुचाल का भंजन कर, मन रंजन जनता का करने |
भारत को सौंपा काश्मीर, तजि तुझे देश का हित करने ||४४||

मग-तरु-गृह सा निज राज्य त्याग, बम्बई मैं कीन्हा सुखद वास |
आजीवन प्रण को पूर्ण किया, फैली जिससे यश की सुवास ||४५||

उन हरीसिंह सर के पंकज, हैं काश्मीर गौरव अनूप |
उप राज्यपाल जन पालक थे, दानी हैं जैसे कर्ण भूप ||४६||

हैं कर्ण सिंह राजा तेरे, भारत के मंत्री अति उदार |
गो द्विज याचक पंडित कवि वो, विष्णू सा देते अतुल प्यार ||४७||

नेहरु जिसके विश्वास पात्र, त्यागी न्यायी पंडित सुजान |
गर्वित हो पाकर काश्मीर !, इन वल रत्न का शुभ्रखान ||४८||

तेरा वैभव ओ ललाट थान, तेरी कलिता काश्मीर देश |
पाने को अपहृत करने को, दृष्टी डाले हैं विविध देश ||४९||

तू अब भी आलस में सोया, गाता अनुराग भरा विहाग |
दुश्मन छाती पर खड़ा हुआ, तू जाग जाग यह राग त्याग ||५०||

4 टिप्‍पणियां:

  1. भारत माता का तू ललाट,साहित्य,शास्त्र का सौख्य सिन्धु |
    लहलही हुई है विश्व-बेलि, जिसकी लघु सी पा एक बिंदु ||



    बहुत-बहुत आभार |
    इस कालजयी प्रस्तुति के लिए ||

    बारी-बारी से---

    उत्तर देंहटाएं
  2. http://www.fnur.bu.edu.eg/
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/422-2013-12-10-10-18-01
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/421-2013-12-10-09-48-39
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/419-2013-12-09-07-21-12
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/420-2013-12-10-09-48-38
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/417-2013
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/418-2013-12-09-07-17-28
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/415-2013-12-03-08-09-23
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/416-2013-12-03-08-25-21
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/413-2013-11-21-07-50-21
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/414-2013-11-25-09-38-30
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/411-2013-11-20-08-11-53
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/412-2014
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/409-2013-2014
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/410-2013-11-13-17-25-28
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/407-2013-11-09-08-51-15
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/408-2013-11-13-11-55-53
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/405-2013-11-09-08-42-05
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/406-2013-11-09-08-46-10
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/403-2013-11-09-08-25-45
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/404-2013-11-09-08-28-15
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/400-2013-11-09-07-50-13
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/401-2013-11-09-08-03-31
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/398-2013-11-09-07-29-40
    www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/399-2013-11-09-07-43-49
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/397-eugen-ionesco
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/402-2014-2013
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/395-2013-11-02-09-07-04

    उत्तर देंहटाएं
  3. http://www.fnur.bu.edu.eg/
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/departements
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/medical-surgical
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/community-health
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/nursing-administration
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/mother-health-obstetrics
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/mental-health
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/pediation-nursing
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/dean-word
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/about-faculty
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/about-faculty/tip
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/about-faculty/vision-mission
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/about-faculty/goals
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/about-faculty/faculty-administration
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/about-faculty/previous-deans
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/about-faculty/t-magies-faculty
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/about-faculty/faculty-deps
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/about-faculty/degrees-offered
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/images/news/haykal%20tanzim11i.jpg
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/images/news/maaeer%20eetemad01_Page_1.jpg
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/images/news/kheta%20maaeer.pdf
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/images/news/khta%20edaria.pdf

    उत्तर देंहटाएं

सुधाकर जी द्वारा अर्जित सम्मान / पुरस्कार

*तत्कालीन वित्तमंत्री श्री मनमोहन सिंह द्वारा 'सेवा श्री' सम्मान
*साहित्य सम्मेलन प्रयाग द्वारा 'साहित्य वारिधि' सम्मान
*ब्रज साहित्य संगम द्वारा 'ब्रज विभूति' सम्मान
* माथुर चतुर्वेद केंद्रीय विद्यालय द्वारा 'कलांकर' सम्मान

ब्लॉग आर्काइव